भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

एक बच्चा जो जन्म लेता है / अनिता भारती

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 12:41, 14 जुलाई 2013 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अनिता भारती |संग्रह=एक क़दम मेरा ...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक बच्चा जो जन्म लेता है
फूल बन लाता है अपने साथ तमाम खूबसूरती
प्रतिभाशाली, सुन्दर, कोमल होता है वो
पर हमारी कौम के लिए
बच्चा है
एक झाडू, इक टोकरी
एक रस्सी, इक ढोल
एक रापी, एक ढोर
हम देते हैं उसे जन्म के साथ ढेका
दुनिया की गन्दगी ढोने का, साफ करने का
माथे पर लगाकर छाप
गुलामी दरिद्ररी की
जो चलती है पीढ़ी दर पीढ़ी