भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

छाँव में बैठ के शाख़ों से शरारत करना / सूफ़ी सुरेन्द्र चतुर्वेदी

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 21:50, 16 नवम्बर 2014 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=सूफ़ी सुरेन्द्र चतुर्वेदी |अनुव...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

छाँव में बैठ के शाख़ों से शरारत करना ।
हमने सीखा है परिन्दों से मुहब्बत करना ।

हम दरख़्तों को बुज़ुर्गों की तरह रखते हैं,
हमको आता है फ़क़ीरों की भी सोहबत करना ।

अपना ईमान बचाने के लिए करना पड़ा,
वरना मुश्किल से ख़लीफ़ों की ख़िलाफ़त करना ।

चाहे दुनिया से हमें शिकवे मिले लाख मगर,
माँ ने सिखलाया नहीं हमको शिकायत करना ।

नींद काग़ज़ की तरह हमने बना ली अपनी,
आ गया हमको भी ख़्वाबों की ख़िताबत करना ।

हमने रिश्तों में कभी क़ैद ना काटी होती,
हम भी गर जानते कुनबे से बग़ावत करना ।

जान जोख़िम में है उन जलते हुए दीयों की,
सोच कर दोस्त हवाओं की वक़ालत करना ।