भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"जग-जीवन में जो चिर महान / सुमित्रानंदन पंत" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
छो ()
 
(एक अन्य सदस्य द्वारा किया गया बीच का एक अवतरण नहीं दर्शाया गया)
पंक्ति 5: पंक्ति 5:
 
}}
 
}}
 
{{KKCatKavita}}
 
{{KKCatKavita}}
 +
{{KKPrasiddhRachna}}
 
<poem>
 
<poem>
 
::जग-जीवन में जो चिर महान,
 
::जग-जीवन में जो चिर महान,
पंक्ति 11: पंक्ति 12:
 
::जिसमें मानव-हित हो समान!
 
::जिसमें मानव-हित हो समान!
 
जिससे जीवन में मिले शक्ति,
 
जिससे जीवन में मिले शक्ति,
छूटें भय, संशय, अंध-भक्ति;
+
छूटे भय, संशय, अंध-भक्ति;
 
मैं वह प्रकाश बन सकूँ, नाथ!
 
मैं वह प्रकाश बन सकूँ, नाथ!
मिज जावें जिसमें अखिल व्‍यक्ति!
+
मिट जावें जिसमें अखिल व्‍यक्ति!
 
::दिशि-दिशि में प्रेम-प्रभा प्रसार,
 
::दिशि-दिशि में प्रेम-प्रभा प्रसार,
 
::हर भेद-भाव का अंधकार,
 
::हर भेद-भाव का अंधकार,
पंक्ति 22: पंक्ति 23:
 
ला सकूँ विश्‍व में एक बार
 
ला सकूँ विश्‍व में एक बार
 
फिर से नव जीवन का विहान!
 
फिर से नव जीवन का विहान!
 
'''रचनाकाल: मई’१९३५
 
 
</poem>
 
</poem>
 +
रचनाकाल: मई १९३५

16:28, 9 जुलाई 2013 के समय का अवतरण

जग-जीवन में जो चिर महान,
सौंदर्य-पूर्ण औ सत्‍य-प्राण,
मैं उसका प्रेमी बनूँ, नाथ!
जिसमें मानव-हित हो समान!
जिससे जीवन में मिले शक्ति,
छूटे भय, संशय, अंध-भक्ति;
मैं वह प्रकाश बन सकूँ, नाथ!
मिट जावें जिसमें अखिल व्‍यक्ति!
दिशि-दिशि में प्रेम-प्रभा प्रसार,
हर भेद-भाव का अंधकार,
मैं खोल सकूँ चिर मुँदे, नाथ!
मानव के उर के स्‍वर्ग-द्वार!
पाकर, प्रभु! तुमसे अमर दान
करने मानव का परित्राण,
ला सकूँ विश्‍व में एक बार
फिर से नव जीवन का विहान!

रचनाकाल: मई १९३५