भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

पहचान / गौरव पाण्डेय

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 09:30, 28 जुलाई 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=गौरव पाण्डेय |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KK...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैंने पहचान-पत्र तैयार कर
उसके गले में डाल दिया- "लो बहन!
आज से लोग तुम्हें तुम्हारे नाम से जानेंगे"
वो हँसती हुयी स्कूल चली गई।

एक दिन होम-वर्क करते हुये
उसने पूछ लिया- "भैया तुम तो
पहचान-पत्र डाल कर कहीं नहीं जाते
लोग कैसे जानेंगे तुम्हे ?"
मैंने बिना कुछ सोचे यूँ ही जवाब दिया- "हाँ बहन!
कोई पहचान नहीं मेरी, अभी कोई नहीं जानता मुझे।"
कहते-कहते मैं दार्शनिक हो उठा था
वो उस दिन उदास चुपचाप कुछ सोचती रह गई ।

फिर एक दिन मैं बैठा कुछ लिख रहा था
वो दरवाजे से दौड़ती अंदर आई
और एक वैसा ही पहचान-पत्र
मेरे गले में डाल दिया
"लो भैया अब तुम्हें भी लोग जानेंगे"
उस पर बड़े सुंदर अक्षरों में लिखा था-

  • शिखा के भैया गौरव*