भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रेम / अनन्या गौड़

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 13:02, 16 अप्रैल 2018 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अनन्या गौड़ |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCat...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

प्रेम इस जीवन का मूल आधार होता है
निश्चल भावों का इसमें संचार होता है
 इक मन दूजे मन को तब ही पढ़ पाता है
 ईश्वर का जब हम पर यह उपकार होता है
 दुनिया में जीना सुनो आसान नहीं होता
 जीत लेगा निज मन, वही बस पार होता है
 राहों पर असत्य की यहाँ जो भी है चलता
 जीवन उसका तो हाँ केवल खार होता है
 परवाह करे जो अपनों की जान से बढ़कर
 जीतने हर बाजी वही तैयार होता है
 कर लो तुम चाहे पूरी दुनिया का भ्रमण
चरणों में मात पिता के संसार होता है