भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बिटिया रानी सोएगी / प्रकाश मनु

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 14:57, 17 सितम्बर 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=प्रकाश मनु |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatLor...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बहुत हुई है उछल-कूद, अब
बिटिया रानी सोएगी,
अब तो बिटिया सोएगी।
खाकर बिस्कुट, पीकर दूद्धू
बिटिया रानी सोएगी
आ जा, आ जा, चिड़िया आ जा,
थोड़ी मीठी तान सुना जा।
आ जा, आ जा तोते राजा,
अपना टें-टें राग सुना जा।
कू-कू करती कोयल आ जा,
लेकर अपना मीठा बाजा।
तू बिटिया को जरा सुला जा,
झूले में तू उसे सुला जा।
निंदिया अब उतरेगी धीरे,
पलने में हंसती-गाती रे।
सोएगी तब सपनों में वह,
मीठे गुनगुन सपनों में वह।
चंदा-तारों की छैयां में
खोएगी फिर वह सपनों में।