भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मण तरू पाँच इन्द्रि तसू साहा / कणहपा

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 13:19, 6 मई 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=कणहपा |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatAngikaRachna}} <...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मण तरू पाँच इन्द्रि तसू साहा।
आसा-बहल परत फल बाहा॥
वॉर गुरू वअणों कुठारे छिज्जअ।
कणह भणइ तरू पुणणइजअ॥
बढ़इ सो तरू सुभासुभपाणी।
छेवइ बिदुजन गुरूपरिमाणी॥
जो तरू छेवइ भेउ ण जाणइ।
सडि पड़िआँ मुठा ना भव माणइ॥
सुणणा तरूवर गऊण कुठार।
छेवई सो तरू मूल ण डाल॥

स्रोत:

  • "अंगिका भाषा और साहित्य" — बिहार राष्ट्रभाषा परिषद
  • "हिंदी काव्य धारा" — महापंडित राहुल सांस्कृत्यायन