भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

युग सम बीत रहा क्षण-क्षण / महावीर प्रसाद ‘मधुप’

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 01:38, 17 जून 2014 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=महावीर प्रसाद 'मधुप' |अनुवादक= |संग...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

युग सम बीत रहा क्षण-क्षण
नहीं दर्द को कहीं शरण

क़दम-क़दम पर रावण हैं
रोज़ हो रहा सिया-हरण

बाड़ खेत को निगल रही
कैसे हो उसका रक्षण

अन्धकार ने कर डाला
सभी उजालों का भक्षण

चोटों से घबराना क्या
जीवन है रण का प्रांगण

कष्टों से जूझा उसका
विजय-वधू ने किया वरण

धन के पीछे पागल हो
मत कर निर्धन का शोषण

ओ मंज़िल के दीवाने
पथ में ही मत रोक चरण

कितनी कोशिश करो कभी
झूठ नहीं कहता दर्पण

निर्मल मन करना है तो
कर दोषों का अनावरण

भीरू मौत से डरते हैं
वीरों का त्यौहार मरण

चन्दन पावक बन जाता
करने पर अति संघर्षण

छल में लिपटा हुआ मिला
गोरे तन का आकर्षण

देश अगर संकट में हो
तन-मन-धन कर दो अर्पण

मातृभूमि का ‘मधुप’ सदा
वन्दनीय होता कण-कण