भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

चेतावनी 3 / शब्द प्रकाश / धरनीदास

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 04:03, 21 जुलाई 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=धरनीदास |अनुवादक= |संग्रह=शब्द प्...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक चारि को सम्पति संगति है, इतनो लगि कौन मनी करना।
एक मालिक नाम धरे दिलमें, धरनी भवसागर जो तरना॥
निज हँक्क पिछानु हकीकत जानु, न छोड इमानदुनीधर ना।
पगु पीर गहो पर पीर हरो, जियना न कछू हक है मरना॥10॥