भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

203 / हीर / वारिस शाह

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 11:38, 31 मार्च 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=वारिस शाह |अनुवादक= |संग्रह=हीर / व...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जेहड़े छड के राह हलाल दे नूं तकन नजर हराम दी मारिअन गे
कबर विच वहा के मार गुरजी सभे पाप ते पुन्न नतारिअन गे
रोज हशर दे एह गुनहगार सभे घत अग दे विच नघारिअन गे
उस वकत ना किसे साथ रलना खाली जेब ते दसत ही झाड़िअन गे
वारस शाह एह उमर दे लाल मोहरे इक रोज नूं आकबत[1] हारियन गे

शब्दार्थ
  1. आखरी समय