भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जौहर / श्यामनारायण पाण्डेय / उन्माद / पृष्ठ १

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तीसरी चिनगारी

शीशमहल की दीवालों पर
शोभित नंगी तसवीरें।
चित्रकार ने लिखीं बेगमों
की बहुरंगी तस्वीरें॥

घूमीं परियाँ आँगन में,
प्रतिबिम्ब दिवालों में घूमे।
झूमी सुन्दरियाँ मधु पी,
प्रतिबिम्ब दीवालों में झूमे॥

देह – सुरभि फैली गज – गति में,
छूकर छोर कुलाबों के।
मधुमाते चलते फिरते हों,
मानो फूल गुलाबों के॥

छमछम दो डग चलीं, नूपुरों
की ध्वनि महलों में गूँजी।
बोली मधुरव से, नखरे से,
कोयल डालों पर कूजी॥

उस पर दो दो रति – प्रतिमाएँ
तिरछी चितवन से जीतीं।
उनसे पूछो, उन्हें देखने में
कितनी रातें बीतीं॥

कटि मृणाल - सी ललित लचीली,
नाभी की वह गहराई।
त्रिबली पर अंजन रेखा - सी,
रोम – लता – छवि लहराई॥

भरी जवानी में तन की क्या
पूछ रहे हो सुघराई!
पथिक, थकित थी उनके तन की
सुघराई पर सुघराई॥

साकी ने ली कनक – सुराही,
कमरे में महकी हाला।
भीनी सुरभि उठी मदिरा की,
बना मधुप – मन मतवाला॥

मह मह सकल दिशाएँ महकीं,
महके कण दीवालों के।
सुरा – प्रतीक्षा में चेतन क्या,
हिले अधर मधु - प्यालों के॥

हँसी बेगमों की आँखें,
मुख भीतर रसनाएँ डोलीं।
गंध कबाबों की गमकी,
‘मधु चलो पियें’ सखियाँ बोलीं॥

बड़े नाज से झुकी सुराही,
कुल कुल कुल की ध्वनि छाई।
सोने – चाँदी के पात्रों में
लाल लाल मदिरा आई॥

एक घूँट, दो घूँट नहीं,
प्यालों पर प्याले टकराए।
और भरो मधु और पियो मधु
के रव महलों में छाए॥

मधु पी मत्त हुईं सुन्दरियाँ,
आँखों में सुर्खी छाई।
वाणी पर अधिकार नहीं अब,
गति में चंचलता आई॥

दो सखियों का वक्ष - मिलन,
मन-मिलन, पुलक-सिहरन-कम्पन।
दो प्राणों के मधु मिलाप से
अलस नयन, उर की धड़कन॥

खुली अधखुली आँखों में,
उर – दान – वासना का नर्तन।
एक – दूसरे को नर समझा,
सजल नयन, अर्पित तन – मन॥

डगमग डगमग पैर पड़े,
हाथों से मधु ढाले छूटे।
गिरे संगमरमर के गच पर,
नीलम के प्याले फूटे॥

गिरे वक्ष से वसन रेशमी,
गुँथे केश के फूल गिरे।
मस्त बेगमों के कन्धों से
धीरे सरक दुकूल गिरे॥

मिल मिल नाच उठीं सुन्दरियाँ,
हार मोतियों के टूटे।
तसवीरों के तरुणों ने
अनिमेष दृगों के फल लूटे॥

माणिक की चौकी से भू पर,
मधु के पात्र गिरे झन झन।
बिखरे कंचन के गुलदस्ते,
गिरे धरा पर मणि - कंगन॥

मदिरा गिरी बही अवनी पर,
हँसीं युवतियाँ मतवाली।
कमरे के गिर शीशे टूटे,
बजी युवतियों की ताली॥

नीलम मणि के निर्मल गच पर
गिरी सुराही चूर हुई।
कलकल से मूर्च्छित खिलजी की
कुछ कुछ मूर्च्छा दूर हुई॥

हँसीं, गा उठीं, वेणु बजे,
स्वर निकले मधुर सितारों से।
राग – रागिनी थिरकीं, मुखरित
वीणा के मृदु तारों से॥