भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जौहर / श्यामनारायण पाण्डेय / उन्माद / पृष्ठ २

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

परियों के मुख से स्वर – लहरी
निकली मधुर मधुर ताजी।
सारंगी के ताल ताल पर
छम छम छम पायल बाजी॥

एक साथ गा उठीं युवतियाँ,
मूर्च्छित के खुल गए नयन।
कर्कश स्वर के तारतम्य से
उठा त्याग कर राजशयन॥

बोला कहाँ मधुर मदिरा है?
कहाँ घूँट भर पानी है?
कहाँ पद्मिनी, कहाँ पद्मिनी,
कहाँ पद्मिनी रानी है?

हाव – भाव से चलीं युवतियाँ
सुन उन्मादी की बोली।
राग – रागिनी रुकी, रुका स्वर,
बन्द हुई मधु की होली॥

आकर उसे रिझाया हिलमिल,
सुरा - पात्र दे दे खेला।
हाथों में उसके हाथों की
अंगुलियों को ले खेला॥

नयन – कोर से क्षण देखा,
क्षण होंठों पर ही मुसकायीं,
जिधर अंग हिल गया उधर ही,
परियों की आँखें धायीं॥

उन्मादी के खुले वक्ष पर
कर रख कोई अलसाई।
तोड़ तोड़कर अंग हाव से
रह रहकर ली जमुहाई॥

आलिंगन के लिए मनोहर,
मृदुल भुजाएँ फैलाईं।
खिलजी की गोदी में गिर गिर,
आँख मूँद, ली जमुहाई॥

उन्मादी ने करवट बदली,
छम छम नखरे से घूमीं।
उसकी पलकों को चूमा, मधु –
मस्ती में झुक झुक झूमीं॥

पर इनका कुछ असर न देखा
तुरत तरुणियाँ मुरझाईं,
अरुण कपोलों पर विषाद की
रेखा झलकी, कुँभलाईं॥

अपनी कजरारी आँखों पर,
अपने गोल कपोलों पर,
अरुण अधर पर, नाहर कटि – पर,
सुधाभरे मधु बोलों पर,

अपने तन के रूप - रंग पर,
अपने तन के पानी पर,
अपने नाजों पर, नखरों पर,
अपनी चढ़ी जवानी पर,

घृणा हुई, गड़ गईं लाज से,
मादक यौवन से ऊबीं।
भरी निराशा में सुन्दरियाँ
चिन्ता – सागर में डूबीं॥

बोल उठा उन्मादी फिर,
मुझको थोड़ा सा पानी दो।
कहाँ पद्मिनी, कहाँ पद्मिनी,
मुझे पद्मिनी रानी दो॥

बोलो तो क्या तुम्हें चाहिए,
उसे ढूँढकर ला दूँ मैं।
रूपराशि के एक अंश पर ही,
साम्राज्य लुटा दूँ मैं॥

कब अधरों के मधुर हास से
विकसित मेरा मन होगा!
कब चरणों के नख - प्रकाश से
जगमग सिंहासन होगा॥

बरस रहा आँखों से पानी,
उर में धधक रही ज्वाला।
मुझ मुरदे पर ढुलका दो
अपनी छबि – मदिरा का प्याला॥

प्राणों की सहचरी पद्मिनी,
वह देखो हँसती आई।
ज्योति महल में फैल गई,
लो बिखरी तन की सुघराई॥

आज छिपाकर तुम्हें रखूँगा,
अपने मणि के हारों में;
अपनी आँखों की पुतली में,
पुतली के लघु तारों में॥

हाय पद्मिनी कहाँ गई? फिर
क्यों मुझसे इतनी रूठी।
अभी न मैंने उसे पिन्हा
पाई हीरे की अंगूठी॥

किस परदे में कहाँ छिपी
मेरे प्राणों की पहचानी।
हाय पद्मिनी, हाय पद्मिनी,
हाय पद्मिनी, महरानी॥

इतने में चित्तौड़ नगर से,
गुप्त दूत आ गया वहाँ।
उन्मादी ने आँखें खोलीं,
भगीं युवतियाँ जहाँ तहाँ॥