भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जौहर / श्यामनारायण पाण्डेय / उन्माद / पृष्ठ ३

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बड़े प्रेम से खिलजी बोला,
कहो यहाँ कब आए हो।
दूर देश चित्तौड़ नगर से
समाचार क्या लाए हो?

मुझे विजय मिल सकती क्या
रावल – कुल के रणधीरों से?
मुझे पद्मिनी मिल सकती क्या
सदा अर्चिता वीरों से॥

सुनो पद्मिनी के बारे में
चुप न रहो कुछ कहा करो।
जब तक पास रहो उसकी ही
मधु – मधु बातें कहा करो॥

किया दूत ने नमस्कार फिर,
कहने को रसना डोली।
निकल पड़ी अधरों के पथ से
विनय भरी मधुमय बोली॥

जहाँ आप हैं, वहीं विजय है,
जहाँ चरण सुख स्वर्ग वहीं।
जहाँ आप हैं वहीं पद्मिनी,
जहाँ आप अपवर्ग वहीं॥

अभी आप इंगित कर दें,
नक्षत्र आपके घर आवें।
रखा पद्मिनी में क्या, नभ से
सूरज – चाँद उतर आवें॥

जिधर क्रोध से आप देख दें,
उधर प्रलय की ज्वाला हो।
जिधर प्रेम से आप देख दें,
उधर फूल हो, माला हो॥

महापुरुष चित्तौड़ नगर के
पास परी सी चित्तौड़ी।
सौत पद्मिनी को न चाहती,
वहीं मानिनी सी पौढ़ी॥

उसकी लेकर मदद आप
चाहें तो पहनें जय - माला।
उससे ही खिंच आ सकती है,
गढ़ की प्रभा रतन – बाला॥

और रानियाँ हो सकतीं
उसके पैरों की धूल नहीं।
सच कहता उसके समान
हँसते उपवन के फूल नहीं॥

रोम – रोम लावण्य भरा है,
रोम – रोम माधुर्य भरा।
बोल – बोल में सुधा लहरती,
शब्द शब्द चातुर्य भरा॥

हिम – माला है, पर ज्वाला भी,
लक्ष्मी है, पर काली भी।
दो डग चलना दुर्लभ, पर
अवसर पर रण - मतवाली भी॥

कानों से सुनकर आँखों से
देखा, जाना, पहचाना।
रतन – रूप की दीप – शिखा का
समझें उसको परवाना॥

इससे पहले जाल प्रेम के
आप बिछावें बिछवावें।
इस पर मिले न तरुणी तब फिर,
रण के बाजे बजवावें॥

इस प्रयत्न से कठिन न उसका
विवश अंक में आ जाना।
शरद – चाँदनी सी आकर
प्राणों में बिखर समा जाना॥

बड़े ध्यान से वचन सुने ये,
खिलजी ने अँगड़ाई ली।
बोला कहो सजे सेना अब,
भैरव सी जमुहाई ली॥

क्षण भर में ही बजे नगाड़े,
गरज उठे रण के बाजे।
निकल पड़ीं झनझन तलवारें,
सजे वीर हय - गज गाजे॥

उधर दुर्ग - सन्निधि अरि आया,
रूप – ज्वाल को रख प्राणो में।
रतन चला आखेट खेलने,
इधर भयद वन के झाड़ों में॥

मृग – दम्पति को मार विपिन में
रावल ने जो पुण्य कमाया।
वनदेवी का तप्त शाप ले
खिलजी से उसका फल पाया॥

वीर पुजारी विपिन – कहानी
लगा सुनाने चिंतित होकर।
सुनने लगा पथिक दंपति की
करुण – सुधा से सिंचित होकर॥

बोला पथिक पुजारी से, क्यों
वनदेवी ने शाप दिया था।
क्यों कैसे अपराध हुआ, क्या
रावल को जो ताप दिया था॥

कहो न देर करो, अब मेरी
उत्कंठा बढ़ती जाती है।
सुनने को विस्मित गाथा वह
मेरी इच्छा अकुलाती है॥

माधव – विद्यालय, काशी
पितृविसर्जन, संवत १९९७