भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

फूले घने, घने-कुंजन माँहिं / शृंगार-लतिका / द्विज

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मत्तगयंद सवैया
(पुनः वसंत की नवीन शोभा का वर्णन)

फूले घने, घने कुंजन माँहिं, नए छबि-पुंज के बीज बए हैं ।
त्यौं तरु-जूहन मैं ’द्विजदेव’, प्रसून नए-ई-नए उनए हैं ॥
साँचौ किधौं सपनौं करतार! बिचारत हूँ नहिं ठीक ठए हैं ।
संग नए, त्यौं समाज नए, सब साज नए, ऋतुराज नए हैं ॥३४॥