भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"आरती और अंगारे / हरिवंशराय बच्चन" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
पंक्ति 24: पंक्ति 24:
 
* [[गर्म लोहा पीट, ठंडा लोहा पीटने को वक्‍त बहुतेरा पड़ा है / हरिवंशराय बच्चन]]
 
* [[गर्म लोहा पीट, ठंडा लोहा पीटने को वक्‍त बहुतेरा पड़ा है / हरिवंशराय बच्चन]]
 
* [[पीठ पर धर बोझ, अपनी राह नापूँ / हरिवंशराय बच्चन]]
 
* [[पीठ पर धर बोझ, अपनी राह नापूँ / हरिवंशराय बच्चन]]
* [[इस रुपहरी चाँदनी में सो नहीं सकतीपखेरू और हम भी / हरिवंशराय बच्चन]]
+
* [[इस रुपहरी चाँदनी में सो नहीं सकते पखेरू और हम भी / हरिवंशराय बच्चन]]
 
* [[आज चंचला की बाहों में उलझा दी हैं बाहें मैंने / हरिवंशराय बच्चन]]
 
* [[आज चंचला की बाहों में उलझा दी हैं बाहें मैंने / हरिवंशराय बच्चन]]
 
* [[साथ भी रखता तुम्‍हें तो, राजहंसिनि / हरिवंशराय बच्चन]]
 
* [[साथ भी रखता तुम्‍हें तो, राजहंसिनि / हरिवंशराय बच्चन]]

23:52, 7 दिसम्बर 2010 का अवतरण

आरती और अंगारे
रचनाकार हरिवंशराय बच्चन
प्रकाशक
वर्ष
भाषा हिन्दी
विषय कविता
विधा
पृष्ठ
ISBN
विविध
इस पन्ने पर दी गई रचनाओं को विश्व भर के स्वयंसेवी योगदानकर्ताओं ने भिन्न-भिन्न स्रोतों का प्रयोग कर कविता कोश में संकलित किया है। ऊपर दी गई प्रकाशक संबंधी जानकारी छपी हुई पुस्तक खरीदने हेतु आपकी सहायता के लिये दी गई है।