भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ऐतरेयोपनिषद / मृदुल कीर्ति

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ॐ श्री परमात्मने नमः

शांति पाठ

हे सच्चिदानंद प्रभो ! मन वचन मेरे विशुद्ध हों,
शुचि वेद विषयक ज्ञान से, मन वाणी मेरे प्रबुद्ध हों।
दिन रात वेदों का अध्ययन , वाणी में ऋत सैट अमिय हो,
रक्षित हों श्री आचार्य मम , हे ब्रह्म हम सब अभय हों॥