भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रश्नोपनिषद / मृदुल कीर्ति

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ॐ श्री परमात्मने नमः

शांति पाठ

हे देव गण !कल्याणमय हम वचन कानों से सुनें,
कल्याण ही नेत्रों से देखें , सुदृढ़ अंग बली बनें।
आराधना स्तुति प्रभो की, हम सदा करते रहे,
मम आयु देवों के काम आए , हम नमन करतें रहें।
हे इन्द्र ! मम कल्याण को , कल्याण का पोषण करे,
हे विश्व वेदाः पूषा श्री मय , ज्ञान संवर्धन करें।
हे बृहस्पति ! अरिष्ट नेमिः , स्वस्ति कारक आप हैं।
सब त्रिविध ताप हों शांत जग के, देते जो संताप हैं।