भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

पद्मावत / मलिक मोहम्मद जायसी

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 06:04, 7 मार्च 2017 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पद्मावत
Padmavat-kavitakosh.jpg
रचनाकार मलिक मोहम्मद जायसी
प्रकाशक
वर्ष 1540 ईस्वीं
भाषा अवधी
विषय प्रेमाख्यान
विधा प्रबंध काव्य (शैली: दोहा चौपाई (कड़वकबद्ध))
पृष्ठ
ISBNGet Barcode
विविध ऊपर दिया गया चित्र पद्मावत की एक सचित्र पांडुलिपि (1750 ईस्वीं) से लिया गया है। पद्मावत को अवधी भाषा की पहली प्रमुख रचना माना जाता है। इसमें जायसी ने नायक रतनसेन और नायिका पद्मिनी की प्रेमकथा को विस्तारपूर्वक कहते हुए प्रेम की साधना का संदेश दिया है। रतनसेन ऐतिहासिक व्यक्ति है, वह चित्तौड़ का राजा है, पदमावती उसकी वह रानी है जिसके सौंदर्य की प्रशंसा सुनकर तत्कालीन सुल्तान अलाउद्दीन खिल्जी उसे प्राप्त करने के लिये चित्तौड़ पर आक्रमण करता है और यद्यपि युद्ध में विजय प्राप्त करता है तथापि पदमावती के जल मरने के कारण उसे नहीं प्राप्त कर पाता है।
इस पन्ने पर दी गई रचनाओं को विश्व भर के स्वयंसेवी योगदानकर्ताओं ने भिन्न-भिन्न स्रोतों का प्रयोग कर कविता कोश में संकलित किया है। ऊपर दी गई प्रकाशक संबंधी जानकारी छपी हुई पुस्तक खरीदने हेतु आपकी सहायता के लिये दी गई है।