भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चाहता हूँ पागल भीड़ / मनोज श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चाहता हूँ पागल भीड़
Chahta Hoon Pagal Bheed.JPG
रचनाकार मनोज श्रीवास्तव
प्रकाशक विद्या श्री पब्लिकेशन्स, शाखा कार्यालय: सी-६६, नई पंचवटी, ( पवन सिनेमा के सामने), जी० टी० रोड, गाजियाबाद-२०१००९
वर्ष 2006
भाषा हिन्दी
विषय कविताएँ
विधा
पृष्ठ 154
ISBN
विविध
इस पन्ने पर दी गई रचनाओं को विश्व भर के स्वयंसेवी योगदानकर्ताओं ने भिन्न-भिन्न स्रोतों का प्रयोग कर कविता कोश में संकलित किया है। ऊपर दी गई प्रकाशक संबंधी जानकारी छपी हुई पुस्तक खरीदने हेतु आपकी सहायता के लिये दी गई है।