भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

श्रेणी:कुण्डलियाँ

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 21:31, 26 फ़रवरी 2016 का अवतरण

यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कुण्डलियाँ मात्रिक छंद है। एक दोहा और एक रोला मिला कर कुण्डलियाँ बनती है। दोहे का अंतिम चरण ही रोला का प्रथम चरण होता है तथा जिस शब्द से कुण्डलियाँ का आरम्भ होता है, उसी शब्द से कुण्डलियाँ छंद समाप्त भी होता है।

"कुण्डलियाँ" श्रेणी में पृष्ठ

इस श्रेणी में निम्नलिखित 174 पृष्ठ हैं, कुल पृष्ठ 174

ख आगे.

ब आगे.